अब पद्मावत का विरोध नहीं करेगी करणी सेना, कहा पद्मावत में दिखाई गई राजपूतों की बहादुरी


Feb. 3, 2018, 5 p.m.

 

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को लेकर अब करणी सेना विरोध नहीं करेगी।  करणी सेना ने शुक्रवार को अपना विरोध वापस लेने का ऐलान किया। करणी सेना ने यह माना कि इस फिल्म में राजपूतों की वीरता को बढ़ाकर गौरव के साथ दिखाया गया है। करणी सेना ने ऐलान किया है कि वो अब इस फिल्म का विरोध नहीं करेंगी। रणी सेना- महाराष्ट्र के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष योगेंद्र सिंह कटार ने चिट्ठी लिख कहा है कि उन्होंने 2 फरवरी को पद्मावत देखी है, जिसमें राजपूतों की वीरता और त्याग का बहुत सुंदर चित्रण किया गया है. यह फिल्म रानी पद्मावती की महानता को समर्पित है। इस फिल्म में रानी पद्मावती और अलाउद्दीन के बीच कोई भी सीन नहीं है।  इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है जो राजपूत समाज के इतिहास और भावनाओं को नुकसान पहुंचाए । इसलिए, करणी सेना अपना विरोध वापस लेती है। साथ ही, राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात समेत देश के सभी हिस्सों में इस फिल्म को रिलीज कराने में करणी सेना प्रशासन को मदद करेगी। फिल्म के अंदर राजपूतों की बहादुरी और उनकी कुर्बानी को बढ़ाचढ़ा कर दिखाया गया है।

फिल्म पद्मावत के खिलाफ प्रदर्शन पिछले साल जनवरी 2016 में उस वक्त शुरू हुआ था जब जयपुर में शूटिंग के दौरान ही भंसाली के साथ बदसलूकी हुई। करणी सेना के लोगों की तरफ से यह दावा किया गया कि इस फिल्म में पद्मिनी बनी दीपिका पादुकोण और अल्लाउद्दीन बने रणवीर सिंह के बीच रोमांस दिखाया गया है। फिल्म पद्मावत के विरोध की वजह से देश का बहुत नुकसान हुआ। गुजरात और राजस्थान में कई गाड़ियां फूंक दी गईं। ऐसे में सवाल ये हैं कि भंसाली ने पहले ही करणी सेना को फिल्म क्यों नहीं दिखाया । 
 

Related news

Trending